बिलासपुर के कानन पेंडारी में PPE किट पहन कर कर्मचारी दे रहे भोजन; हैदराबाद में 8 शेरों में मिले हैं कोविड के लक्षण, बढ़ाई गई सतर्कता

by bharatheadline

आम लोगों के बाद अब वन्य जीवों पर भी कोरोना संक्रमण का खतरा मंडराने लगा है। इसके बाद छत्तीसगढ़ के बिलासपुर स्थित कानन पेंडारी जूलॉजिकल पार्क में कर्मचारी PPE किट पहनकर वन्य जीवों को भोजन दे रहे हैं। खास कर यह सावधानी मांसाहारी वन्य जीवों को लेकर ज्यादा बरती जा रही है। हैदराबाद स्थित जूलॉजिकल पार्क के 8 शेरों में कोविड के लक्षण मिलने के बाद यह कदम उठाया गया है।

भोजन देते समय दस्ताने और चिमटे का इस्तेमाल करें
पार्क प्रबंधन की ओर से सभी जू कीपर्स और वाहन चालकों को PPE और दस्ताने पहनना अनिवार्य किया गया है। साथ ही कहा गया है कि वन्य जीवों के साथ वे 2 फीट की दूरी बनाकर रखें। भोजन देते समय चिमटे का इस्तेमाल करें। वन्य जीवों को जो भोजन दिया जा रहा है कि उसे भी गरम पानी से धोने के बाद ही देने के निर्देश है। इसके लिए 15 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। पार्क में अभी तक किसी भी वन्य प्राणी में कोरोना के लक्षण नहीं मिले हैं।

सिर्फ मांसाहारियों में कोरोना के लक्ष्ण दिखाई दिए हैं
कानन अधीक्षक संजय लूथरा के अनुसार, कोरोना का संक्रमण सिर्फ मांसाहारी वन्य प्राणियों को है। इस वजह से कर्मचारियों को सावधानी बरतने के निर्देश दिए गए हैं। कानन में सभी जू कीपरों का कोविड टेस्ट कराया जा चुका है। दिन में दो बार हाईपोक्लोराइड से जू परिसर को सैनिटाइज भी कर रहे हैं। केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण की गाइड-लाइन के अनुरूप बचाव के उपाय किए जा रहे हैं। हैदराबाद में शेरों में कोरोना के लक्षण मिलने के बाद निर्देश हैं।

हैदराबाद के एशियाई शेरों में सामने आए हैं लक्षण, सभी को किया गया है आइसोलेट
हैदराबाद के नेहरू जूलॉजिकल पार्क में 4 मई को 8 एशियाई शेरों के संक्रमित मिलने की बात सामने आई थी। इसके बाद उनको आइसोलेट कर दिया गया। इनका व्यवहार फिलहाल सामान्य है। सभी सामान्य रूप से खाना भी खा रहे हैं। जू में काम करने वाले 25 कर्मचारी इस रिपोर्ट के आने से पहले संक्रमित हो गए थे। ऐसे में आशंका है कि इनसे ही शेरों में संक्रमण हुआ हो। हालांकि जानवर से लोगों में संक्रमण फैलने का एक भी मामला अभी सामने नहीं आया है।

Related Posts

Leave a Comment