लोगों के भरोसे पर खरी उतरती रायगढ़ पुलिस, जरूरतमंदों को खाना-दवा-मेडिकल सुविधा उपलब्ध करा रहा थाना चक्रधर नगर

by bharatheadline

रूटीन ड्यूटी के अलावे लोगों की हरसंभव मदद करने में पुलिसकर्मी सबसे पहले : एडिशनल एसपी वर्मा
लोग हमसे सीधे जुड़ रहे हैं और अपनी समस्या बता रहे हैं: निरीक्षक अभिनवकान्त

रायगढ़। कोरोना महामारी के दौरान रायगढ़ पुलिस अपने मूल कार्य के अलावा इस स्वास्थ्य संकट में लोगों की मदद भी कर रही है जिसमें टीकाकरण केंद्रों में टीके के लाभार्थियों की निगरानी,गांव-गांव में टीकाकरण को लेकर जागरूकता, जरूरतमंदों को दवा, सेनेटाइजर, मास्क, खाना इत्यादि उपलब्ध करवाना शामिल है।
कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए जिले में 16 मई तक लॉकडाउन है। इसका पालन कराने की जिम्मेदारी पुलिस के कंधों पर है। लोगों से हर दिन हर पल रूबरू पुलिसकर्मी ही होते हैं और इनसे बेहतर लोगों की समस्या फिलवक्त कोई नहीं समझ सकता, हर छोटी बड़ी आवश्यकता-मेडिकल इमरजेंसी में लोग पुलिसवालों को ही याद कर रहे हैं।

जिला मानसिक स्वास्थ्य के सलाहकार अतीत राव कहते हैं कि महामारी के समय में लोगों का पुलिस पर जबरदस्त भरोसा कायम हुआ है। वह उन्हें ही सर्वत्र देख रही है। पुलिस ने भी दोनों हाँथों से लोगों की मदद की हैं। ऐसे में पुलिसकर्मी लोगों के लिए वर्तमान में हर समस्या का हल बने हुए, महामारी में ऐसा विश्वास होना लोगों के मानसिक स्वास्थ्य के अच्छा है। भरोसा बड़ी से बड़ी समस्या को सुलझा देता है।

अस्पताल में डॉक्टर तो बाहर पुलिस सेवा में : पार्षद पंकज
वार्ड नंबर 23 के पार्षद पंकज कंकरवाल बताते हैं कि डॉक्टर अगर अस्पताल में मरीजों की सेवा कर रहे हैं तो क्षेत्र की पुलिस लोगों की सेवा कर रही है। मैंने जब भी किसी व्यक्ति की सहायता के लिए चक्रधर नगर पुलिस को कहा है उन्होंने कभी निराश नहीं किया है।‘’ बड़े अतरमुडा निवासी धीरज तिवारी बताते हैं कि आउटर में रहने के कारण उनके घर के आसपास कई निराश्रित लोगों का जमावड़ा है|मैंने थाने में इत्तेला दी तब से अब तक सुबह शाम इन जरूरतमंदों की देखभाल चक्रधरनगर पुलिस कर रही है।‘’

संक्रमित हुए पर डिगा नहीं हौसला : एएसपी अभिषेक वर्मा
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा कहते हैं “बीते साल से महामारी में रायगढ़ पुलिस ने लोगों जागरूक करने के तमाम जतन अपनाए हैं और हमारा प्रयास जारी है। अपनी रूटीन ड्यूटी के अलावे लोगों की हरसंभव मदद करने में पुलिसकर्मी सबसे पहले आए हैं इसमें वो संक्रमित भी हुए पर हौसला नहीं डिगा। सभी थाने-चौकी अपने-अपने स्तर पर इस महामारी में लोक हितैषी कार्य कर रहे हैं। थाना चक्रधर नगर भी इसी कड़ी में महामारी के समय अपने कर्तव्यों का निर्वहन बखूबी कर रहा है।”

लोग ज्यादा महत्वपूर्ण : निरीक्षक अभिनवकांत सिंह
चक्रधरनगर थाना जिले के सबसे संवेदनशील थानों में से एक है। 72 गांव और शहर की आधी आबादी इसके आती है| । कोरोना को देखते हुए अधिकतर गांवों के खुद को ही बाहरी दुनिया से पृथक कर लिया है और खुद तक पहुंच रोड को अवरुद्ध कर दिया है। इन गांवों में बहुत से बाहर के लोग भी लॉकडाउन से पहले आकर रह रहे हैं|
इनके खाने की व्यवस्था भी थाने ने ही की है। बीते 20 दिनों से हर शाम 6 बजे थाना के स्टाफ एकताल और समीपस्थ ग्रामों में चिन्हित 100 लोगों को रेडी-टू-ईट फूड वितरित करते हैं। थाना प्रभारी निरीक्षक अभिनवकान्त सिंह कहते हैं: “लॉकडाउन में अपराध की संख्या में कमी आई है। हमारा पूरा बल चेक पॉइंट, फिक्स्ड पॉइंट, पेट्रोलिंग के अलावे सबसे ज्यादा लोगों के लिए लगा है क्योंकि लोग सबसे अधिक महत्वपूर्ण हैं। इस बात की खुशी है लोग हमसे सीधे जुड़ रहे हैं और अपनी समस्या बता रहे हैं हम यथासंभव उसे पूरा करने में लगे हैं। पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह का हमें स्पष्ट निर्देश है कि जरूरतमंदों के डटकर खड़े रहो साथ ही किसी भी मेडिकल इमरजेंसी को तत्काल अटेंड करना।”

Related Posts

Leave a Comment