लॉकडाउन में बेजुबान जानवरों के लिए मसीहा बनी सर्परक्षक समिति व एनिमल रेस्क्यू टीम

by bharatheadline

रायगढ़. लॉकडाउन के समय जहां लोग अपने घरों में रहकर पूरे परिवार के साथ अलग-अलग तरीके से अपना समय काट रहे हैं और ऐसे में सड़क में घुमते हुए बेजुबान जानवरों के लिए जब कोई नही सोच रहा था तब शहर की सर्प रक्षक समिति एवं एनिमल रेस्क्यू टीम ने इन भूखे बेजुबान जानवरों के लिए खुद के जेब खर्च को खर्च करते हुए रोजाना भोजन करने के लिए बीडा उठाया है।
दानवीर की नगरी कहे जाने वाले रायगढ़ जिले में कोरोनाकाल के दौरान लगने वाले लॉकडाउन में जहां यहां की सामाजिक संस्थाए आगे आकर गरीब व जरूरतमंदो में भोजन व सूखे राशन का वितरण कर रही है। वहीं शहर में युवाओं की एक ऐसी संस्था भी है जो स्वयं के खर्चे से बेजुबान जानवरों को सुबह व शाम इस लॉकडाउन में शहर के अलग-अलग इलाको में घूम घूम कर भोजन करा रही है।
कोविड महामारी के दौर में लॉक डाउन होने से इंसानों के साथ साथ शहर के आवारा पशुओं को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जहां सभी भोजनालय सब्जी मंडिया और दुकाने बंद होने के कारण शहर के कुत्तों एवम गायों को भोजन के लिए प्रति दिन जद्दोजहद करना पड़ रहा है । इन जगहों से बचे हुआ खाना मिलने से शहर के पशुओं को भोजन मिल पाता था। इसी बीच रायगढ़ शहर में कुछ समितियां ईन बेजुबानों के लिए भरपूर काम कर रही है। जिनमे से एक पंजीकृत संस्था सर्प रक्षक समिति रायगढ़ है , जो जंगली जीव जंतु एवं शहरी आवारा पशुओं के लिए कार्यरत है।
समिति के अध्यक्ष विनितेश तिवारी का कहना है कि सर्प रक्षक समिति वन्यजीवों एवं शहरी आवारा पशुओं का रेस्क्यू तो करती ही है साथ ही साथ इस लॉकडाउन में बेजुबान भूखे शहरीय जानवरों के लिए भोजन भी मुहैया करा रही है समिति स्वयं के खर्च से ही कुत्तों एवं गायों के लिए भोजन वितरण करती है लॉकडाउन में कोई भी जीव भूखा ना रहे इस हेतु कुत्तों के लिए रोटी, चावल, बिस्किट, और एवं गाय के लिए सब्जी जैसे टमाटर, पत्ता गोभी, बैगन आदि की व्यवस्था करती है और शहरों में सभी जीवो को भोजन कराती है। शहर के कुत्तों के लिए चावल बना कर उसमें दूध ,दही या पेडिग्री मिला कर सभी चौक चौराहों में जा जा कर उन्हें भोजन कराती है एवं गायों के लिए पिकअप या दोपहिया वाहनों में टमाटर, पत्तागोभी, बैगन या इसी प्रकार के अन्य सब्जियों को चौक चौराहे में घूम घूम कर खिलाती है। गायों के भोजन वितरण के कार्य मे बजरंग दल विश्व हिन्दू परिषद एवं रवि तेजवानी का विशेष सहयोग प्राप्त होता है।
समिति के अध्यक्ष विनितेश तिवारी का यह भी कहना था कि नगर निगम के अंतर्गत आने वाले सभी 48 वार्डो में सक्षम लोगों को बेजुबान मवेशियों के लिए दो वक्त की रोटी के लिए एकजुट होकर कार्य करने की जरूरत है। चूंकि जितने ज्यादा लोग बेजुबान मवेशियों की मदद के लिए आगे आएंगे उतने ज्यादा मवेशियों का इस लॉकडाउन में पेट भरता रहेगा।
सर्परक्षक समिति व एनिमल रेस्क्यू टीम के विनितेश तिवारी, नीरज साव, लोकेश मालाकार, सज्जन साहू, जय नारायण खर्रा, विकास चौधरी, सोमदेव मिश्रा, जय यदु, रितेश गोरख ,शफी आलम, पंकज पटेल, ओंकार पटेल, अजय सिंह, धर्मेन्द्र कुमार सिंह ,पुरषोत्तम रोहड़ा,मनीष ठाकुर, विपुल सिंह ठाकुर, अज्जू मिरी, प्रशांत सोनी, सोमदेव मिश्रा, वजीर खान, राघवेंद्र बहिदार, भाविका पाण्डेय , रश्मि खल्खो , प्रार्थना शर्मा, भावना काबरा, वंदना तिवारी, देवांश पांडेय,कुलदीप त्रिपाठी के ऋतुराज के द्वारा शहर के अलग-अलग क्षेत्रों में मवेशियों के लिए दो वक्त का भोजन कराने की इस सराहनीय पहल से लगातार शहरवासी जुड़ते जा रहे हैं।


सोशल मीडिया में किया एनिमल फीड चैलेंगे
सोशल मीडिया फेसबुक में चल रहे कपल चैलेंगे, स्माईल चैलेंज की तर्ज पर समिति के सदस्यों ने सोशल मीडिया में एनिमल फीड चैलंेज किया है। जिसमें कहा गया है कि अगर आप में यह चैलेंज स्वीकार करते हैं तो आप अपने घर के आसपास के बेजुबान मवेशियों को खाना खिलाकर सोशल मीडिया फेसबुक में एक फोटो पोस्ट करिए। जितने ज्यादा लोग इस चैलेंज को स्वीकार करेंगे उतने ज्यादा मवेशियों का पेट भरेगा।


घायल मवेशियों का करते हैं उपचार
सर्प रक्षक समिति गायों एवं कुत्तों को भोजन के अलावा घायल गायों व कुत्तों का यथा संभव इलाज कर रेस्क्यू भी करती है। इस कार्य मे शासकीय पशु चिकित्सक डी. एन. चौधरी का भी भरपूर सहयोग मिलता है।


लोगों को पशु सेवा के लिए प्रेरित करना उद्देश्य
समिति का उद्देश्य इन जीवो को भोजन करना ही नहीं अपितु अन्य लोगो को भी इस कार्य के लिए प्रेरित करना भी है। ताकि आमजन भी अपने आस पास के जीव जंतुओं को घर के बचे हुए भोजन और पानी दें, जिससे कोई भी जीव भूखा न रहे।

Related Posts

Leave a Comment