इस शहर से ‘लापता’ हो गए नौ हजार कोरोना मरीज, सीएमओ ने दिए जांच के आदेश

by bharatheadline

मेरठ जिला स्वास्थ्य विभाग का गणित समझ से परे है। हर दिन स्वास्थ्य विभाग कोरोना संक्रमितों के बारे में रिपोर्ट जारी करता है, लेकिन इसमें करीब नौ हजार मरीजों का ब्योरा गायब है। सीएमओ डा.अखिलेश मोहन का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है।
स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, 12 मई तक जिले में कुल 18 हजार 418 ऐक्टिव केस हैं। इसमें से 7306 होम आइसोलेशन में हैं। 1760 मरीजों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। वहीं, अबत क 572 लोगों की मौत हो चुकी है। इस तरह, तीनों को जोड़ने के बाद मरीज की कुल संख्या 09 हजार 638 ही मिलती है, जबकि स्वास्थ्य विभाग ही जिले में ऐक्टिव केस 18 हजार 418 बता रहा है। इस तरह कुल आठ हजार 780 मरीज कहां हैं, इसका ब्योरा स्वास्थ्य विभाग के पास नहीं है।

57 हजार 711 कुल संक्रमित, 38 हजार 714 हुए स्वस्थ
‘हिन्दुस्तान’ ने जब स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों की पड़ताल की तो कुछ और ही सच सामने आया। अब जिले में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 57 हजार 711 हो गई है। इसमें से 38 हजार 714 स्वस्थ्य हो चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के रिकॉर्ड के अनुसार 572 मरीजों की मौत हो चुकी है। इस तरह जिले में अब भी कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 18 हजार 425 है, जबकि स्वास्थ्य विभाग 18 हजार 418 ही बता रहा है। करीब नौ हजार कोरोना संक्रमित मरीजों के बारे में स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों में गड़बड़ी है। डा.अखिलेश मोहन, सीएमओ का कहनाा है कि विभाग के पास यही जानकारी है। ऐक्टिव मरीज तो सही में 18 हजार से अधिक हो चुके हैं, लेकिन मेरे पास रिकॉर्ड में 1760 का अस्पताल में और 7306 का होम आइसोलेशन में इलाज हो रहा है। इस पर जांच चल रही है

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट
ऐक्टिव केस 18,418
आंकड़ों में अंतर
होम आइसोलेशन – 7306
अस्पताल में – 1760
मौत – 572
कुल ऐक्टिव केस- 9,63

Related Posts

Leave a Comment