शादियों के लिए जारी नई गाइडलाइन से मुश्किल, 25 मेहमानों की शर्त के बाद कई ने टालीं तारीखें

by bharatheadline

शादी वाले घरों में कोरोना संक्रमण के खतरों को देखते हुए प्रदेश सरकार द्वारा जारी नई गाइडलाइन के बाद शहर में 100 से अधिक शादियां टाल दी गई हैं। 25 मेहमानों की शर्त ने वर-वधू ही नहीं, मैरेज हाल संचालकों को भी मुश्किल में डाल दिया है। बुधवार को मैरेज हाल, वीडियोग्राफी, फूल डेकोरेशन और कैर्ट्स के पास शादियों को टालने को लेकर कई फोन आए। मैरेज हाल संचालकों के मुताबिक, मई के अंतिम सप्ताह और जून में होने वाली 100 से अधिक शादियां टल गई हैं।
मई के अंतिम सप्ताह में काफी शुभ मुहूर्त हैं। मई के बचे हुए दिनों में 21, 22, 23, 24, 25, 26, 28, 29 और 30 शादी का शुभ मुहूर्त है। जून में 8 शुभ दिन तो जुलाई में ​विवाह के लिए 5 शुभ दिन हैं। गोरखपुर मैरेज एसोसिएशन के अध्यक्ष विजय खेमका का कहना है कि ‘सरकार की नई गाइड लाइन के बाद जो लोग शादी को लेकर तैयार थे या फिर असमंजस में थे, उन्होंने शादियां टाल दी हैं। मैरेज हाल में 25 आदमियों का स्टॉफ ही हो जाता है। वर-वधू पक्ष मिलाकर न्यूनतम 50 लोग हो जाएंगे। दो परिवारों ने तो बुधवार को शादी रद्द करने की सूचना दी। गोरखपुर के 200 से अधिक मैरेज हाल में आने वाले दिनों में प्रस्तावित 100 से अधिक शादियां रद्द हो गई हैं।
शहर में वीडियोग्राफी करने वाले राजकुमार श्रीवास्तव का कहना है कि अप्रैल से जुलाई के बीच होने वाली 80 फीसदी से अधिक शादियां तो पहले ही रद्द हो गई थीं। रही सही कसर सरकार की नई गाइड लाइन ने पूरी कर दी। तीन शादियां तो बुधवार को रद्द हो गईं। जो मई के अंतिम सप्ताह और जून में होने वाली थीं। वहीं फूल डेकोरेशन करने वाले पंकज सैनी का कहना है कि अब मैरेज हाल में शादियां हो नहीं रही हैं। अब या तो होटलों में शादियां होंगी या फिर घर पर। नई गाइड लाइन के बाद फूल डेकोरेशन के लिए कोई उम्मीद नहीं बची है। आने वाले दिनों की बुकिंग रद्द हो रही है।’ मऊ के रहने वाले कमलेश श्रीवास्तव ने बेटी के शादी के लिए सिविल लाइंस के एक मैरेज हाल की बुकिंग की थी। 27 मई की बुकिंग रद्द कर दी है। उनका कहना है कि कोरोना के मामलों और सरकार की गाइड लाइन को देखते हुए शादी संभव नहीं था। अब स्थिति में सुधार के बाद नई तारीख तय करेंगे।
वर-वधू पक्ष मिलाकर 25 लोगों की गाइडलाइन ने कैटर्स को भी बेकार कर दिया है। कैटर्स राजेश छापड़िया कहते हैं कि ‘25 लोगों के लिए कोई कैटर्स बुकिंग नहीं करेगा। कुल मिलाकर शादियों के लिए यह साल पूरी तरह बर्बाद हो चुका है। 200 करोड़ की बेडिंग इंडस्ट्री चौपट हो गई है। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका में नवम्बर और दिसम्बर की शादियों पर भी ग्रहण लग गया है। मैरेज हाल संचालक नवीन श्रीवास्तव कहते हैं कि 25 लोगों की मौजूदगी में शादी संभव नहीं है।

होटलों की पूछ बढ़ी
शादियों में 25 लोगों की शर्त के बाद होटल संचालकों की कुछ हद तक पूछ बढ़ी है। लोग अब होटल में हाल की बुकिंग कर शादी की रस्म पूरा करने की तैयारी में हैं। होटल संचालक ध्रुव श्रीवास्तव का कहना है कि 25 लोगों की मौजूदगी में शादी की बुकिंग करना काफी मुश्किल है। हाल और खाने की अलग-अलग व्यवस्था हो तभी होटल का खर्च निकल सकता है। लोग पूछताछ कर रहे हैं। वहीं तारामंडल क्षेत्र में होटल संचालिक करने वाले अम्बरीश का कहना है कि कुछ घरों में शादियां होगी। अब ऐसे लोग होटलों में पूछताछ कर रहे हैं। कोई हाल के साथ 25 लोगों के फ्री भोजन की मांग कर रहा है तो कोई 50 हजार में पूरी व्यवस्था मांग रहा है।

Related Posts

Leave a Comment