महात्मा गांधी चिकित्सालय अब बनेगा आर्इ्रसोलेशन वार्ड, कलेक्टर ने किया निरीक्षण,आवश्यक तैयारियों को पूरा करने का दिया आदेश

by bharatheadline

रायगढ़. किरोड़ीमल चैरेटी ट्रस्ट द्वारा कई सालों से संचालित किये जाने वाला महात्मा गांधी नेत्र चिकित्सालय अब जिला प्रशासन की देखरेख में कोविड आईसोलेशन वार्ड के रूप में नया आकार लेगा। कलेक्टर ने ट्रस्ट की संपत्ति को प्रशासन के मर्ज में लेते हुए यह आदेश जारी किए हैं। लंबे समय से महात्मा गांधी नेत्र चिकित्सालय ट्रस्ट के कुछ पदाधिकारियों के कब्जे में था और वहां खाली पड़ी संपत्ति पर अलग-अलग ढंग से नियमों की अनदेखी करके जिला प्रशासन को गुमराह किया जा रहा था।
जिला कलेक्टर भीम सिंह ने शहर के बीचो बीच खाली पड़े इस महात्मा गांधी नेत्र चिकित्सालय को कोविड आईसोलेशन सेंटर बनाने का निर्णय लिया है और इसके लिए उन्होंने आज सुबह दौरा करते हुए अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए जल्द ही इसे तैयार करने को भी कहा है। यहां यह बताना लाजमी होगा कि इस चिकित्सालय में कई सालों से स्व. डॉ . पीके मिश्रा अपनी सेवाएं देते आ रहे थे और उनके निधन के बाद अस्पताल को ट्रस्ट के ही कुछ लोगों ने अपने कब्जे में ले लिया था। इतना ही नही ट्रस्ट की संपत्ति पर मनमाने तरीके से ट्रस्ट के ही कुछ पदाधिकारी जिला प्रशासन को गुमराह कर रहे थे जिसकी शिकायतें समय-समय पर कलेक्टर को मिलती रही थी। अब जिला कलेक्टर ने इस नेत्र चिकित्सालय को प्रशासन के आधिपत्य में लेते हुए जनता की सुविधाओं को बढाने के लिए कोविड आईसोलेशन वार्ड बनाने का निर्णय लिया है जिससे कोविड मरीजों को शहर के भीतर ही बेहतर सुविधा मिलेगी और उसका लाभ भी मिलेगा।

Related Posts

Leave a Comment