सड़क निर्माण का भूमिपूजन विवादों में,कांग्रेस की अंदरूनी खींचतान एक बार फिर आई सामने

by bharatheadline

घरघोड़ा। जिले में सर्वाधिक विवादित नगर पंचायत कहे जाने वाले घरघोड़ा नगर पंचायत में एक बार फिर से एक नया विवाद सामने आया है। मामला यह है कि कारगिल चौक से छाल रोड बाईपास तक जर्जर पड़े सड़क का निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ। जिस का भूमि पूजन नगर पंचायत के उपाध्यक्ष उस्मान बेग ने अकेले ही कर दिया। कोविड नियमों का हवाला देते हुए उस कार्यक्रम में न ही किसी भी स्थानीय जनप्रतिनिधियों को बुलाया गया, ना ही क्षेत्र के विधायक को और ना ही किसी अन्य कांग्रेसी नेता को। इससे दोनों पक्षो में अब खींचतान शुरू हो गई है।

उक्त संबंध में मिली जानकारी के अनुसार घरघोड़ा के कारगिल चौक से छाल रोड बाईपास तक का मार्ग अत्यंत जर्जर था। जिसे बनाने की मांग स्थानीय लोगों द्वारा लगातार की जाती रही है। कुछ माह पूर्व ही इस वार्ड के लोगों ने अपने पार्षद के नेतृत्व में चक्का जाम आंदोलन कर इस सड़क के निर्माण की मांग की थी। जिस पर एसडीएम घरघोड़ा और पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों के लिखित में आश्वासन देने के बाद चक्का जाम खत्म कराया जा सका था। बता दें कि उक्त निर्माण कार्य रायगढ़ कलेक्टर के निर्देश पर लोक निर्माण विभाग द्वारा कराया जा रहा है। उक्त निर्माण कार्य की राशि न तो शासन से न ही विधायक निधि से और ना ही नगर पंचायत की निधि से स्वीकृत हुई है, बल्कि उक्त राशि रु. 92 लाख एनटीपीसी द्वारा प्रदान की गई है। परंतु उक्त निर्माण कार्य का श्रेय अकेले लेने के आरोपों से उक्त भूमिपूजन पर सवाल उठ खड़े हुए हैं।

इस मामले पर क्या कहते हैं लोग ?
इस मामले में दोनों पक्षों के लोग मीडिया और सोशल मीडिया में अपने ही मुंह मियां मिट्ठू बनने में लगे हुए हैं। दोनों पक्षों के लोग कार्य का असली श्रेय खुद को देने में जुटे हुए हैं। एक ओर जहां एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष व नगर पंचायत के उपाध्यक्ष उस्मान बेग का कहना है कि उन्होंने ही कलेक्टर, पीडब्ल्यूडी और एनटीपीसी के अधिकारियों से लगातार मिलकर इस कार्य को स्वीकृत कराया है। वहीं दूसरी ओर विधायक लालजीत सिंह राठिया के समर्थक इस कार्य को विधायक के प्रयासों से होना बता रहे हैं। विधायक समर्थकों का आरोप है कि कोविड प्रोटोकॉल के कारण लोक निर्माण विभाग के अधिकारी किसी भी प्रकार के भूमि पूजन कार्यक्रम से बचना चाहते थे। इसलिए उन्होंने ठेकेदार को सीधे काम चालू करने का आदेश दे दिया। जिसका कार्य कल 20 मई को प्रारंभ करने हेतु ठेकेदार के द्वारा एक जेसीबी घरघोड़ा भेजी गई थी। जब काम करने की जानकारी उस्मान को हुई तो उनके द्वारा आनन-फानन में लोक निर्माण विभाग के समय पाल मनोरथ साहू को बुलाकर जेसीबी के सामने खड़े होकर एक नारियल फोड़कर काम प्रारंभ कर दिया गया और सोशल मीडिया अखबारों में उस्मान के द्वारा समाचार प्रकाशित करवाया गया कि उनके प्रयास से यह कार्य प्रारंभ हो सका है। जिसके लिए विधायक से भी सहयोग लिया गया था किंतु कार्य मेरे प्रयास से किया गया है। साथ ही उन्होंने सभी को धन्यवाद और आभार व्यक्त किया है। इस तरह के कृत्य से विधायक समर्थक कांग्रेसियों में फिर से आक्रोश व्याप्त है और इसकी शिकायत विधायक लालजीत सिंह राठिया से की गई है। विधायक समर्थकों का कहना है कि उस्मान बैग ने उस वक्त हद कर दी जब उन्होंने आनन-फानन में सड़क ठेकेदार से जेसीबी मंगवा कर बिना विधायक या किसी जनप्रतिनिधि तथा अधिकारियों की उपस्थिति बिना सड़क निर्माण का भूमि पूजन स्वयंभू पंडित बुलाकर लोक निर्माण विभाग के एक समय पाल मनोरथ साहू की उपस्थिति में कर दिया। जब इसकी जानकारी सोशल मीडिया में अखबारों में जनप्रतिनिधियों एवं कांग्रेस के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों को हुई तब इस संबंध में सभी पदाधिकारियों ने एक विज्ञप्ति जारी कर सोशल मीडिया में विधायक श्री लालजीत सिंह का आभार एवं धन्यवाद ज्ञापित किया और कहा कि माननीय विधायक श्री लालजीत सिंह के अथक प्रयास से छाल रोड का निर्माण की स्वीकृति प्राप्त हुई है। इसके लिए विधायक जी का आभार एवं धन्यवाद ज्ञापित किया है। घरघोड़ा ब्लॉक के विधायक प्रतिनिधि किरोड़ी तायल, पार्षद सुरेंद्र चौधरी, पार्षद शिवनाथ राठिया, श्रीमती दुलारो पैकरा, एल्डरमैन नागेंद्र ठाकुर, सोमदेव मिश्रा, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष मुरलीधर गुप्ता, रायगढ़ जिला के सचिव दल गुंजन सिंह बेहरा, नरेश पटेल, विष्णु तायल, गोलू मित्तल, प्रदीप चौहान ने कहा है कि छाल रोड का निर्माण विधायक लालजीत सिंह जी के द्वारा विगत एक वर्ष पूर्व से कलेक्टर रायगढ की उपस्थिति में सीएसआर मद की बैठक में प्रस्ताव पारित करा कर एनटीपीसी के माध्यम से सड़क निर्माण की मंजूरी करा दी गई थी। जिसकी जानकारी विधायक जी द्वारा सभी को दे दी गई थी जिसका समाचार एक वर्ष पूर्व ही कई अखबारों ने इसे प्रमुखता से प्रकाशित किया था। परंतु उस्मान बेग द्वारा झूठा श्रेय लेने का प्रयास किया जा रहा है जो निंदनीय है।

पूर्व में भी हो चुका है विवाद

ज्ञातव्य हो कि पिछले दिनों नगर पंचायत मैं विधायक लालजीत सिंह राठिया का लोकार्पण शिलालेख को तोड़कर कचरे के ढेर में फेंक दिया गया था। जिसकी शिकायत पार्षद सुरेंद्र चौधरी, शिवनाथ सिंह राठिया, भगवती श्रीवास, दुलारो पैकरा, कनक पैकरा, सुशील खांडे द्वारा घरघोड़ा थाना एवं एसडीएम तथा उच्च अधिकारियों से की गई थी, जिसकी जांच लॉकडाउन के कारण लंबित है। उक्त शिकायतकर्ताओं का कहना है कि अब इस दूसरे छिछोरे हरकत से विधायक जी के सम्मान को ठेस पहुंचाते हुए उनकी किरकिरी करने में तथाकथित पार्टी के कार्यकर्ता लगे हुए हैं जो सड़क निर्माण का श्रेय लेने के लिए इस तरह के छिछोरे कार्य से विधायक के कार्य पर प्रश्न खड़ा करने का काम रहे हैं। इनका आरोप है कि पार्टी की छवि भी धूमिल करने में ये कुछ फूल छाप कांग्रेसी लोग लगे हुए हैं।

बहरहाल जो भी हो छाल रोड के रहवासी काम चालू होने से बेहद खुश हैं, क्योंकि उनकी कई सालों की परेशानी जल्द ही दूर होने वाली है। दूसरी ओर नगर के लोग इन दोनों पक्षों के दावों को चटखारे लेकर सुन रहे हैं।

Related Posts

Leave a Comment