पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह का बड़ा आरोप, मृत्यु प्रमाण पत्र में कोरोना का उल्लेख नहीं, परिजनों को खोेने वाले हजारों बच्चे लाभकारी योजनाओं से होंगे वंचित

by bharatheadline

रायपुर। छ्त्तीसगढ़ में कोरोना से मौत के आंकड़े छिपाने-बताने के सियासी गर्माहट के बाद अब मृत्यु प्रमाण पत्र में कोरोना का उल्लेख नहीं होने को लेकर सियासी पारा गर्म हो रहा है । बीजेपी का सरकार पर आरोप है कि सरकार की गलतियों की वजह से केंद्र की योजनाओं से वो हजारों बच्चे वंचित हो जाएंगे, जिन बच्चों के परिजनों की कोरोना से मौत हुई है । केंद्र सरकार ने ऐसे बच्चों और उनके परिजनों को विशेष सुविधा देने के लिए कई योजनाएं बनाई है ।
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि कोरोना और इसकी वजह से मरने वाले बहुत से लोगों के मृत्यु प्रमाण पत्र में कोरोना से मौत का उल्लेख नहीं किया जा रहा है । सरकार भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रही है । इस पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और छत्तीसगढ़ खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के चेयरमैन राजेंद्र तिवारी का कहना है कि BJP का ये आरोप पूरी तरह निराधार है । कोरोना से मरने वालों को कोरोना से मौत का मृत्यु प्रमाण पत्र दिया जा रहा है । BJP बेवजह इसे तूल दे रही है । हम आपको बता दें कि केंद्र सरकार कोरोना की वजह से अनाथ हुए बच्चों को 12 वीं तक की निशुल्क शिक्षा और 23 वर्ष की उम्र पूरा करने के बाद 10 लाख रुपए देने की घोषणा की है ।

Related Posts

Leave a Comment