लंबी दूरी की ट्रेनों के लिए परिचालन अवधि का विस्तार, लेकिन बंद हुई पेंट्रीकार

by bharatheadline

बिलासपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की दो लंबी दूरी वाली ट्रेनों कोरबा- अमृतसर स्पेशल और दुर्ग-निजामुद्दीन संपर्क क्रांति स्पेशल ट्रेन के यात्रियों को सफर के दौरान बिस्किट का एक पैकेट और पानी बोतल तक नहीं मिल रही है। इससे यात्रियों के लिए सफर काफी परेशानियों भरा हो गया है।
यह समस्या दूसरी बार आई है। दरअसल रेलवे ने इन दोनों ट्रेनों के परिचालन की अवधि बढ़ाई है। पूर्व में लिए गए निर्णय के अनुसार नवंबर अंतिम सप्ताह में परिचालन का समय समाप्त हो रहा था। अब इन ट्रेनों को कुछ दिन और चलाने का निर्णय लिया है। इसलिए पूर्व में जो पेंट्रीकार का टेंडर हुआ था वह समाप्त हो गया है। नए टेंडर के लिए आइआरसीटीसी को समय लग रहा है। जबकि इस ट्रेन में पेंट्रीकार के कोच हैं, लेकिन टेंडर नहीं होने के कारण कोच बंद ही रहता है। इससे यात्री परेशान हैं।
सबसे ज्यादा परेशानी छत्तीसढ़ एक्सप्रेस के यात्रियों को हो रही है। यह ट्रेन 2116 किमी दूरी तय करती है। कोरबा या बिलासपुर से सफर करने वाले यात्रियों को करीब तीन तक ट्रेन में गुजारना पड़ता है। इस लिहाज से उन्हें खाने का समान मिल जाने से राहत रहती है, लेकिन उन्हें यह सुविधा नहीं मिल पा रही है। इधर रेलवे लगातार आइआरसीटीसी पर पेट्रीकार की सुविधा देने के लिए दबाव बना रहा है। आइआरसीटीसी का साफ कहना है कि टेंडर की प्रक्रिया में समय लगता है। बार- बार विस्तार के कारण यह दिक्कत आ रही है। ट्रेनों को बार- बार विस्तार करने के बजाय नियमित या फिर में अधिक दिनों के लिए चलाई जाएगी, तो इस तरह की दिक्कत नहीं आएगी। अभी यदि फिर से टेंडर करते हैं तो कुछ दिनों बाद वही दिक्कत आएगी। दोनों विभागों की इस तालमेल की कमी का खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है।
ट्रेनों को कुछ दिनों के लिए विस्तार करने के कारण पेंट्रीकार की सुविधा देने में परेशानी हो रही है। मुख्यालय स्तर पर फिर से टेंडर किया जा रहा है। इसके पूरा होते ही यात्रियों को ट्रेन में खाने का पैकेट बंद सामान मिलने लगेगा। कोरोना के पेंट्रीकार में खाना पकाने की अनुमति नहीं दी गई है।

Related Posts

Leave a Comment