पापा शराब पीकर आए थे, मम्मी सो रही थी, प्रेमी को बुलाकर दोनों को मरवा दिया

by bharatheadline

इंदौर। पंद्रहवीं बटालियन के सिपाही ज्योतिप्रसाद शर्मा और उनकी पत्नी नीलम की हत्या करने वाला धनंजय यादव उर्फ डीजे और ज्योति की बेटी (नाबालिग) ने हत्या स्वीकार ली है। आरोपित किशोरी ने ही हत्या का षड्यंत्र रचा था। हत्या के बाद दराता और चाकू सुपर कॉरिडोर पर फेंक दिया था। आरोपित बाइक से भागते पकड़ाए हैं।
डीआइजी हरिनारायणाचारी मिश्र के मुताबिक एरोड्रम थाना क्षेत्र स्थित रुक्मणी नगर में गुरुवार तड़के 45 वर्षीय ज्योतिप्रसाद शर्मा और उनकी पत्नी नीलम के उनके घर में ही रक्तरंजित अवस्था में शव मिले थे। घटना के बाद से उनकी बेटी गायब थी। वह केंद्रीय विद्यालय में दसवीं की छात्रा हैं। वह एक पत्र भी लिखकर गई थी। उसमें पिता पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था। देर रात दोनों को पुलिस ने मंदसौर और नीमच के बीच से उस वक्त पकड़ लिया, जब राजस्थान भागने की फिराक में थे। पूछताछ में लड़की ने कहा मैंने ही डीजे को बुलाया था। रात को पापा शराब के नशे में थे। वो अक्सर शराब पीकर आते थे। घर में मम्मी-पापा का रोजाना झगड़ा होता था। मैं रोजाना के विवादों से तंग आ गई थी। मेरे साथ भी उनका व्यवहार ठीक नहीं था। इस कारण मैंने डीजे से दोनों को मरवा दिया। डीजे ने कहा कि लड़की से प्रेम करता हूं। उसकी परेशानी देखी नहीं गई।
थाना में दोहराई दुष्कर्म की कहानी, पुलिस को शक
सूत्रों के मुताबिक लड़की ने थाने में कहा कि पिता मेरे साथ गलत काम करते थे। मां उनका साथ देती थी। मुझे दोनों से नफरत होने लगी थी। पुलिस के मुताबिक हत्या दराते और चाकू से की है। आरोपित हथियार भागते वक्त सुपर कॉरिडोर पर फेंकना बता रहे हैं।

Related Posts

Leave a Comment