कोरोना काल में झोलाछाप डाक्टर की जेब हो रही गर्म , इलाज के नाम पर वसूल रहे मोटी रकम

by bharatheadline

रायगढ़। ग्रामीण क्षेत्रों के साथ-साथ अब शहरी क्षेत्रों में भी झोलाछाप डाक्टर सक्रिय हो गए हैं और बेधडक़ औने-पौने दाम लेकर मरीजों का उपचार कर रहे हैं। शहर के लोग भी कोरोना जांच के भय से इन झोलाझाप डाक्टरों से अपना उपचार कराना उचित समझ रहे हैं। ऐसे में कभी भी कोई घटना घट सकती है इस बात से इंकार नही किया जा सकता। जिले के स्वास्थ्य अधिकारी को इस दिशा में कार्रवाई करने की जरूरत है। ताकि लगातार गांव से लेकर शहर में अपनी दुकान चला रहे झोलाझाप डाक्टरों पर अंकुश लग सके।
कोरोना संक्रमण से आज पूरा देश जूझ रहा है। इस वायरस के जद में आकर अभी तक कई लोग काल के गाल में समा चुके हैं। इस गंभीर वायरस से आए दिन शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में सैकड़ो की संख्या में मरीज सामने आ रहे हैं। यहां तक लोग अब कोरोना संक्रमण के भय से सर्दी, खांसी, बुखार होनें पर हास्पीटल जाने की बजाए गली मोहल्लों व ग्रामीण क्षेत्रों में दुकान चला रहे झोलाछाप डाक्टर के पास जा रहे हैं। वहां मौजूद डाक्टर भी बगैर कोरोना जांच के मरीजों को इंजेक्शन और टेबलेट देकर अपने कर्तव्र्य की इतिश्री कर लेते हैं। साथ ही मरीज से मोटी रकम वसूल कर रहे हैं।
शहर के एक युवा ने नाम नही छापने की शर्त पर बताया कि उनके मोहल्ले में पिछले कुछ वर्षो से एक झोलाछाप डाक्टर सक्रिय है जो लोगों को घर पहुंच सेवा देता है इसके एवज में सर्दी, खांसी और बुखार मरीजों के जेब में डाका डालते हुए मोटी रकम भी वसूल रहा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा ऐसे झोलाछाप डाक्टरों पर किसी भी प्रकार कार्रवाई नही किए जाने से इतने हौंसले अब इतने बुलंद हो चुके हैं कि पहले ये ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी दुकानदारी चलाते थे परंतु अब ये शहरी क्षेत्रों में भी अपनी पैठ जमाने में कामयाब हो चुके हैं। इन झोलाछाप डाक्टरों पर जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को तत्काल कार्रवाई की गाज गिरानी चाहिए, ताकि आने वाले दिनों में होनें वाली कोई बड़ी घटना को रोका जा सके।


क्या कहते हैं सीएचएमओ
इस संबंध में जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एसएन केशरी से चर्चा करने पर उन्होंने बताया कि शहर तथा ग्रामीण क्षेत्रों में झोलाछाप डाक्टर की तरह काम करने वाले लोगों पर कार्रवाई की जा रही है और अगर रामभांठा क्षेत्र में भी ऐसा कोई डाक्टर है, जो बिना सक्षम प्रमाण पत्र के लोगों का इलाज कर रहा है तो उसके खिलाफ भी निश्चित रूप से कार्रवाई की जाएगी।

Related Posts

Leave a Comment