साल के आखिरी दिन छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थल रहेंगे गुलजार, ऐसी है व्यवस्था

by bharatheadline

रायपुर। लगभग नौ महीने तक कोरोना महामारी के चलते छत्तीसगढ़ के पर्यटन केंद्रों पर वीरानी छाई हुई थी। अब नए साल की खुशियां मनाने के लिए प्रायः ज्यादातर पर्यटन स्थलों की बुकिंग हो चुकी है। अब फिर से ये पर्यटन केंद्र गुलजार होंगे। छत्तीसगढ़ का प्राकृतिक सौंदर्य पर्यटकों को लुभाता रहा है। इस साल कई दिक्कतों के बाद अब रौनक लौट चुकी है। छत्तीसगढ़ के प्राकृतिक वातावरण में नववर्ष की खुशियां दिखाई देने लगी है।
राज्य के चित्रकोट, मैनपाट, बारनवापारा, आमाडोब, कोंडातराई, आसना के पर्यटन केंद्रों पर कमरों की बुकिंग हो चुकी है। पर्यटन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अभी भी काफी लोग नववर्ष के लिए वहां जाने और बुकिंग करवाने पूछताछ कर रहे हैं। बुकिंग पूरी होने का पता चलने पर अन्य पर्यटन केंद्रों पर जाने संपर्क कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल की प्रचार अधिकारी अनुराधा दुबे ने बताया कि नववर्ष की खुशी मनाने अन्य राज्यों से पर्यटक यहां आएंगे। रायपुर, दुर्ग, भिलाई के लोग बारनवापारा, चित्रकोट, मैनपाट, सिरपुर, भोरमदेव, चंपारण सहित अन्य पर्यटन स्थलों पर नववर्ष मनाने बुकिंग करवा चुके हैं।

केंद्र कमरे व्यक्ति बुकिंग
चित्रकोट 12 36 व्यक्ति सभी बुक
आसना, जगदलपुर 8 32 व्यक्ति सभी बुक
बारनवापारा 12 36 व्यक्ति सभी बुक
कोंडातराई, रायगढ़ 6 36 व्यक्ति सभी बुक
गंगरेल बांध 5 15 व्यक्ति सभी बुक
चंपारण 8 24 व्यक्ति सभी बुक
आमाडोब, बिलासपुर 12 36 व्यक्ति सभी बुक


बस्तर का चित्रकोट खास आकर्षण
पर्यटन अधिकारी अनुराधा दुबे के अनुसार वैसे तो अन्य राज्यों के पर्यटक सभी जगहों पर आ रहे हैं, लेकिन पर्यटकों की पहली पसंद चित्रकोट है। वे चित्रकोट जल प्रपात के साथ ही तीरथगढ़ जलप्रपात, गुफा देखने लालायित हैं। छत्तीसगढ़ में देशी-विदेशी सैलानियों के लिए सुविधाओं का विस्तार किया गया है।


जनवरी से मार्च तक 3876 पर्यटक
छत्तीसगढ़ में जनवरी से मार्च तक 3876 पर्यटक पहुंचे। इससे विभाग को 74 लाख 13 हजार, 997 रुपये की आय हुई। इसके बाद कोरोना महामारी के कारण पर्यटन स्थल अप्रैल से जून तक बंद रहे। जून में लाक डाउन हटने के बाद जुलाई में फिर से पर्यटन केंद्र खोले गए।


जुलाई से अक्टूबर तक 3301 पर्यटक
इसके बाद जुलाई से लेकर अक्टूबर तक छत्तीसगढ़ में 3301 पर्यटक आए। इससे विभाग को 74 लाख 72 हजार 700 रुपये की आय हुई।


दिसंबर की बुकिंग फुल
अब नए साल के स्वागत के लिए साल के अंतिम दिनों की बुकिंग हो चुकी है। चित्रकोट, चिल्फी, नवापारा अभयारण्य, मैनपाट में एक भी कमरे खाली नहीं हैं।

Related Posts

Leave a Comment