शहीदे आजम भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की शहादत दिवस पर मोमबत्ती जलाई गई

by bharatheadline


रायगढ़।शहीदे आजम भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की शहादत दिवस पर 23 मार्च को संयुक्त किसान मोर्चा, अखिल भारतीय शांति और एकजुटता संगठन(AIPSO) रायगढ़,ट्रेड यूनियन कौंसिल, जिला बचाओ संघर्ष मोर्चा, इप्टा, प्रगति शील लेखक संघ, एवम् जनसंगठनों द्वारा शहीद चौक रायगढ़ मैं अमर शहीदो को पुष्पांजलि एवम् मोमबत्ती जलाकर श्रद्धांजली अर्पित किया गया।

अमर शहिद भगत सिंह के जीवन संघर्ष ,विचार और शहादत पर केंद्रित एक संक्षिप्त पर्चा वितरित किया गया। साथी गणेश कछवाहा ( AIPSO) एवं संयोजक ट्रेड यूनियन काउंसिल, शेख कलीमुल्लाह कार्यकारी अध्यक्ष छत्तीसगढ़ प्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ ,साथी मदन पटेल संयुक्त किसान मोर्चा, लंबोदर साव छत्तीसगढ़ किसान सभा साथी एसबी सिंह ,खगेश पटेल दवा प्रतिनिधि संघ साथी रविंद्र चौबे इप्टा, प्रगतिशील लेखक संघ रायगढ़ सहित अन्य जनसंगठनों के सदस्यों की सक्रिय भागीदारी रही।

सभा में शहीद भगत सिंह की शहादत और देश की वर्तमान हालात,राजनैतिक सामाजिक पतिस्थितियों पर विचार व्यक्त करते हुए भगत सिंह की प्रासंगिकता को रेंखांकित किया गया तथा उनके विचारों को जीवन में आत्मसात करने को ही शहीदों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि बतलाया।

शहिद भगत सिंह की धरती से ही कृषि संशोधन काले कानून के खिलाफ किसानों के लंबे संघर्ष की ऊर्जा और शक्ति का मुख्य स्त्रोत भगत सिंह,राजगुरु और सुखदेव जैसे शहीदों की शहादत और कुर्बानी ही है। किसान आंदोलन की फिजाओं में यही तराना गूंज रहा है “ऐ भगत सिंह तू जिंदा है हर एक लहू के कतरे में ——।”
साथियों ने शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए केन्द्र सरकार से कृषि संशोधन बिल 2020 को तत्काल वापस लेने की मांग की।तथा अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के द्वारा 26 मार्च 2021 को भारत बंद के आव्हान को सफल बनाने की अपील की गई है।

Related Posts

Leave a Comment