जीते जी ऑक्‍सीजन और बेड नहीं, मरने के बाद शवों के दाह संस्कार में कमीशन

by bharatheadline

प्रयागराज के फाफामऊ श्मशान घाट पर दाह संस्कार करने वाले एक व्यक्ति और एंबुलेंस चालकों के बीच कमीशनखोरी का मामला सामने आया है। कमीशन के चक्कर में एंबुलेंस चालक एक ही व्यक्ति के पास शव लेकर जा रहे हैं। जबकि घाट पर संक्रमितों का शव जलाने के लिए दो लोगों को अधिकृत किया गया है।
खास बात यह है कि एंबुलेंस चालक को दिया जाने वाला कमीशन दाह संस्कार करने वाले की राशि से काटा जा रहा है। घाट पर दाह संस्कार करने वाले ने ही एंबुलेंस चालकों को दिए जा रहे कमीशन का खुलासा किया है। घाट पर चल रहे खेल की सारी जानकारी बीते दिन वायरल हुए वीडियो में है।
घाट पर कोरोना संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए दो लोगों को लगाया गया है। एक व्यक्ति पहले से शवों का अंतिम संस्कार करा रहा था। घाट पर शवों के अंतिम संस्कार के लिए 20 हजार रुपये तक की वसूली का मामला सामने आने के बाद प्रशासन ने चार हजार रुपये रेट तय कर दिया है।
चार हजार रुपये में से एक हजार रुपये दाह संस्कार करने वाले का शुल्क बनता है। रेट तय होने के बाद मनमानी वसूली रुक गई तो एंबुलेंस चालकों को तीन सौ रुपये प्रति शव कमीशन देने का खेल शुरू कर दिया गया। ताकि एक ही व्यक्ति के पास सभी शव लाए जाएं। एंबुलेंस चालकों को कमीशन देने के लिए अंतिम संस्कार करने वाले की राशि से कटौती की जा रही है।

Related Posts

Leave a Comment