लॉकडाउन की आड में अनाज व दवाई की बिक्री में हो रही मुनाफाखोरी,घडल्ले से बिक रही है अवैध शराब, आबकारी विभाग का मिल रहा मौन समर्थन

by bharatheadline

रायगढ़. रायगढ़ जिले में बीते 14 अपै्रल से चल रहे लगातार लॉकडाउन की वजह से लोगांे को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। एक तरफ बढ़ती महंगाई तो दूसरी तरफ लॉकडाउन की आड में छोटे से लेकर बड़े सामानों को दोगुने-तीगुने दामों पर बेचने वाले दुकानदार। इतना ही नही कालाबाजारी भी तेजी से बढ़ी है और सर्वाधिक नुकसान जनता का हो रहा है। जिन्हें एक वक्त की रोटी कमाने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ती थी और अब दुकान बंद, काम बंद, ऑफिस बंद, हर जगह सन्नाटा पसरा हुआ है, ऐसे में खाली जेबों को लेकर जनता आखिर जाए कहां। लॉकडाउन के समय घरों में रहकर अपना पेट भरने के लिए मजबूर जनता लुटेरों के चंगुल में फंस गए हैं। दाल रोटी खरीदने के भी लाल इसलिए पड़े हैं चूंकि एक तरफ तो काम काज बंद तो बची खुची पूंजी से महंगे सामान खरीदने पर मजबूर हो गए हैं। ऐसा नही है कि प्रशासन को ऐसे लूट का बाजार चलाने वाले व्यापारियों की खबर नही है। समय-समय पर कार्रवाई भी होती है लेकिन कोरोना के आड में सामानों के दाम जबरन बढ़ाकर बेचने वाले दुकानदार लगातार सक्रिय हैं। थोक अनाज विक्रेता तो रातों रात मालामाल होना चाहते हैं उन्हें इस बात की जानकारी है कि वे अपना माल तिगुने मुनाफे में भी बेचेंगे तो उनका माल आराम से बिक जाएगा और इसके बाद चिल्हर दुकानदार भी लाभ कमाने के लिए जनता को और महंगे दरों पर सामान बेच रहा है। जिन पर कार्रवाई आवश्यक है। उनके लिए अलग से एक टीम बनाई जानी चाहिए ताकि कोरोना महामारी की आड में ऐसे मुनाफा खोर व्यापारियों के चेहरे सामने आ सकें।
दुकानदारों द्वारा सामानों की कालाबाजारी एवं ज्यादा मूल्यों पर सामान बेचे जाने के मामले में रायगढ़ एसडीएम का साफ कहना था कि ऐसी शिकायतें मिली है और एक टीम बनाकर छापामार कार्रवाई करके व्यापारियांे के खिलाफ मामले भी दर्ज कर रही है। इतना ही नही कुछ दुकानदारों द्वारा चोरी छिपे लॉकडाउन का उल्लंघन कर सामान बेचे जाने पर भी जुर्माने लगाए गए हैं। उनका कहना है कि जिला कलेक्टर भीम सिंह का स्पष्ट निर्देश है कि आम जनता को अगर कोई भी बीमारी महंगे दामांे पर सामान बेचते पाया जाता है तो उसके खिलाफ कडी से कडी कार्रवाई की जाएगी।


दवाई दुकानों में भी मची है लूट
हाल ही में कुछ लोगों ने यह भी शिकायत की थी कि दवाई दुकानदार भी इस मामले में पीछे नही हैं। अधिकांश थोक व चिल्हर दवा दुकानदार पल्स मीटर के अलावा अन्य दवाईयों को महंगे दामों पर बेचकर मुनाफाखोरी कर रहे हैं। इतना ही नही कुछ जगह तो सेनेटाईजर व मास्क से भी लाभ कमाने से नही चूक रहे हैं।


क्या कहते हैं अधिकारी
इस संबंध में हमने जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एसएन केशरी से बात की तो उनका कहना था कि कुछ दवा दुकानदार महंगे दामांे पर पल्स मीटर तथा अन्य सामान व दवाईयां बेच रहे हैं जिनके उपर कार्रवाई शुरू कर दी गई है और ऐसी शिकायत यदि कोई ग्राहक सीधे उन तक पहुंचाता है तो भी उसे संज्ञान में लिया जाएगा।

Related Posts

Leave a Comment