कांकेर में सहायक आरक्षक 4 दिन से गायब, राजनांदगांव के नक्सल प्रभावित इलाके में मिली बाइक; अफसर बोले- बिना बताए गया

by bharatheadline

छत्तीसगढ़ में फिर एक जवान लापता हो गया है। अब छत्तीसगढ़ पुलिस में सहायक आरक्षक मनोज नेताम 4 दिन से गायब हैं। उनकी बाइक और चप्पल शनिवार को कांकेर बार्डर से लगे राजनांदगांव के नक्सल प्रभावित इलाके मानपुर के सुनसान इलाके में मिली है। आशंका जताई जा रही है कि उनको नक्सलियों ने अगवा किया है। हालांकि, इसकी पुष्टि नहीं हो रही है। वहीं अफसरों का कहना है कि जवान बिना बताए गायब है।
जानकारी के मुताबिक, कांकेर के जाड़ेकुर्सी गांव निवासी मनोज नेताम कोडेकुर्सी थाना में सहायक आरक्षक के पद पर तैनात है। वह 28 अप्रैल को ड्यूटी पर थाना नहीं पहुंचा। इसके बाद से उसका कुछ पता नहीं चल रहा था। इस बीच शनिवार को राजनांदगांव और कांकेर बार्डर पर रानवाही और बुर्के के बीच उसकी बाइक और चप्पल बरामद हुई। वहीं से कुछ दूरी पर जवान का गांव भी है। सूचना मिलने पर पुलिस ने उसके सामान को जब्त कर लिया है।

परिजनों ने बताया- जवान घर भी नहीं पहुंचा, सामान भी उसी का
भानुप्रतापपुर SDOP अमोलक सिंह ढिल्लों ने बताया कि सहायक आरक्षक मनोज नेताम बिना बताए गायब है। उसने कोई छुट्‌टी भी नहीं ली थी। उसके परिजनों को बुलाया गया था। उन्होंने पुष्टि की है कि बरामद बाइक और चप्पल जवान की है। उनका कहना है कि मनोज नेताम घर भी नहीं पहुंचा है। फिलहाल जहां बाइक मिली है, वहां से नक्सली पर्चा या इससे संबंधित कोई चीज मिलने की बात से उन्होंने इनकार किया है। कहा कि जवान की तलाश की जा रही है।

कवर्धा में भी 10 दिन पहले से लापता CAF के APC का सुराग नहीं
इससे करीब 10 दिन पहले 21 अप्रैल को कवर्धा में CAF (छत्तीसगढ़ आर्म्ड फोर्स) के 20वीं बटालियन के असिस्टेंट प्लाटून कमांडर (APC) कृष्टोफर लकड़ा गायब हुए हैं। उनका अभी तक कुछ पता नहीं चल सका है। नक्सल प्रभावित इलाके में स्थित कैंप से गायब होने के चलते नक्सलियों के अगवा कर लेने की आशंका जताई जा रही है। हालांकि अफसरों ने इससे इनकार किया है। SP शलभ सिन्हा ने कहा था कि जवान की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है।

बीजापुर में नक्सलियों ने अगवा SI की हत्या कर फेंका शव
वहीं बीजापुर में 21 अप्रैल को अगवा किए गए DRG (डिस्ट्रिक्ट रिजर्व ग्रुप) के SI मुरली ताती की नक्सलियों ने 23 अप्रैल की देर रात हत्या कर दी थी। उनका शव सड़क किनारे फेंक कर नक्सली भाग निकले। उनका शव रात एड्समेटा के पेददा पारा में मिला। नक्सलियों की पश्चिम बस्तर डिवीजन ने जवान की हत्या करने की जिम्मेदारी ली है। SI मुरली ताती साल 2006 से DRG में पदस्थ थे और लगातार काम कर रहे थे।

Related Posts

Leave a Comment